Home
Darbaar
Shanka
1M
GauSeva
Saint
eBook
Photo
Video
eSatsung
Pandit
Radio
Worship
Store
 
Hindi | English
सत्संग
मूर्ति पत्थर नहीं है
 

Audio :

#Readers :

एक राजा था,एक बार उसने भगवान कृष्ण जी का एक मंदिर बनवाया और पूजा के लिए एक पुजारी जी को लगा दिया. पुजारी जी बड़े भाव से बिहारी जी की सेवा करने लगे,भगवान का श्रंगार करते,भोग लगाते,उन्हें सुलाते, ऐसा करते-करते पुजारी जी बूंढे हो गए,राजा रोज एक फूलो की माला सेवक के हाथ से भेजा करता था,पुजारी जी वह माला बिहारी जी को पहना देते थे,जब राजा दर्शन करने जाते थे तो पुजारी जी वह माला बिहारी जी के गले से उतार कर राजा को पहना देते थे. ये हर दिन का नियम था. 

 

एक दिन राजा किसी काम से मंदिर नहीं जा सके इसलिए उसने सेवक से कहा-तुम ये माला लेकर मंदिर जाओ और पुजारी जी से कहना आज हमें कुछ काम है इसलिए हम नही आ सकते वे हमारा इंतजार न करे.सेवक ने जाकर माला पुजारी जी को दे दी और सारी बात बता कर वापस आ गया .

 

पुजारी जी ने माला बिहारी जी को पहना दी फ़िर वे सोचने लगे की आज बिहारीजी की मुझ पर बड़ी कृपा है. राजा तो आज आये नहीं क्यों न ये माला में पहन लू ,इतना सोचकर पुजारी जी ने माला उतार कर स्वंय पहन ली . इतने में सेवक ने बाहर से कहा - राजा आ रहे है.पुजारे जी ने सोचा अगर राजा ने माला मेरे गले में देख ली,तो मुझ पर बहुत नाराज होगे हड़बडा़हट में पुजारी जी ने अपने गले से माला उत्तार कर बिहारी जी को पहना दी,

 

जैसे ही राजा आये तो माला उतार कर राजा को पहना दी.राजा ने देखा माला में एक सफ़ेद बाल लगा है तो राजा समझ गए की पुजारी जी ने माला स्वंय पहन ली हैराजा को बहुत गुस्सा आया.राजा ने पुजारी जी से पूँछा - पुजारी जी ये सफ़ेद बाल किसका है ? पुजारी जी को लगा अगर में सच बोलूगा तो राजा सजा देगा इसलिये पुजारी जी ने कहा-ये सफ़ेद बाल बिहारी जी का है. अब तो राजा को और भी गुस्सा आया कि  ये पुजारी जी झूठ पर झूठ बोले जा रहा है. बिहारी जी के बाल भी कही सफ़ेद होते है. 

 

राजा ने कहा - पुजारी जी अगर ये सफेद बाल बिहारी जी का है तो सुबह श्रंगार करते, समय में आँउगा और देखूँगा कि बिहारी जी के बाल सफ़ेद है या काले,अगर बिहारी जी के बाल काले निकले तो आपको फाँसी की सजा दी जायेगे.इतना कह कर राजा चला गया .

 

अब पुजारी जी रोने लगे और बिहारी जी से कहने लगे – हे प्रभु अब आप ही बचाइए नहीं तो राजा मुझे सुबह होते ही फाँसी पर चढा देगा,पुजारी जी की सारी रात रोने में निकल गयी कब सुबह हो गयी उन्हें पता ही नहीं चला. सुबह होते ही राजा आ गया और बोला पुजारी जी में स्वंय देखूगा. इतना कहकर राजा ने जैसे ही मुकुट हटाया तो क्या देखता है बिहारी जी के सारे बाल सफ़ेद है.राजा को लगा,पुजारी जी ने ऐसा किया है अब तो उसे और भी गुस्सा आया और उसने परीक्षा करने के लिए कि बाल असली है या नकली, जैसे  ही एक बाल तोडा़ तो बिहारी जी के सिर से खून कि धार बहने लगीऔर बिहारी जी के श्री विग्रह से आवाज आई कि- हे राजा तुमने आज तक मुझ केवल एक मूर्ति ही समझा इसलिए आज से में तुम्हारे लिए मूर्ति ही हूँ और पुजारी जी की सच्ची भक्ति से भगवान बड़े प्रसन्न हुए.   

 

सार

मंदिर में बैठे भगवान केवल एक पत्थर की मूर्ति नहीं है,उन्हें इसी भाव से देखो की वे साक्षात बिहारी जी है और वैसे ही उनकी सेवा करो . 

 

"जय जय श्री राधे"


Comments
2011-12-25 19:39:54 By Ashwani Vashisht

JAI RADHA MADHAV JAI JAI KUNJ BIHARI
JAI MUKUND MADHAV JAI JAI GOVERDHAN DHARI.

2011-06-26 09:35:10 By nakul ramanujdas

jai shri brijander nandnandan ki

2011-06-16 20:03:42 By Richa Akshay Bopshetty

nice ....jai shree radhey :)

2011-05-19 11:26:45 By Anand Batra

jai ho mere laadli sarkar ki

2011-05-08 22:31:04 By binod gupta

ja ki rahi bhawana jaisi prabhu murat dekhi tina taisi radhey radhey gahawar vana maha latana patana maha braj kana kana maha shree radhey

2011-05-02 18:40:45 By gaurav

hare krishna

2011-05-02 18:40:19 By gaurav

hare krishna

2011-04-30 14:03:12 By ??? ???????

जय जय श्री राधे !

2011-04-16 11:44:45 By KAILASH CHANDRA SHARMA

MURTIYON ME VASTVIK PRANPRATISHTHA TO BHAKTO KI SHRADHDA SE HI HOTI HAI.ADHE RADHE ...

Enter comments


 
Share
!! जय जय श्री राधे !!
 
 
श्रीमद्भागवत
ब्रज संग्रह
कृष्ण संग्रह
राधा संग्रह
स्त्रोत संग्रह
आरती संग्रह
रास पंचाध्यायी
गोपी गीत
शिक्षाएँ
भक्त चरित्र
ज्ञान
एकादशी
चैतन्य सन्देश
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com